रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने दुर्घटनाओं की ली नैतिक जिम्मेदारी ,दे सकते हैं इस्तीफा

नयी दिल्ली : रेलमंत्री सुरेश प्रभु इस्तीफा दे सकते हैं. उन्होंने अब से कुछ देर पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर इस्तीफे की पेशकश की. ऐसी खबरें आ रही हैं कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है हालांकि इस्तीफा अभी मंजूर नहीं हुआ है. सुरेश प्रभु ने मोदी से मिलने के बाद ट्‌वीट कर उक्त जानकारी दी. उन्होंने ट्‌वीट किया कि पिछले कुछ दिनों में हुई रेल दुर्घटनाओं से मैं आहत हूं. ऐसी घटनाएं बहुत दुख और पीड़ा देती हैं.
रेलमंत्री के इस्तीफे की पेशकश पर वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि प्रधानमंत्री सुरेश प्रभु के आग्राह पर निर्णय करेंगे.

 

सुरेश प्रभु ने ट्‌वीट किया कि मैंने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भेंट की और उनसे कहा कि दुर्घटनाओं की पूरी नैतिक जिम्मेदारी मैं लेता हूं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुझसे  थोड़ा इंतजार करने को कहा है. सुरेश प्रभु ने इस्तीफे की पेशकश से पहले आज हुई कैफियत एक्सप्रेस रेल दुर्घटना पर भी दुख व्यक्त करते हुए ट्‌वीट किया. प्रभु ने लिखा है-पिछले तीन वर्षों से एक रेलमंत्री के रूप में मैंने अपने खून पसीने से विभाग की बेहतरी के लिए काम किया. नये भारत का निर्माण प्रधानमंत्री के नेतृत्व में होगा, जिसपर रेल विभाग काम कर रहा है.

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में जिस तरह से रेल दुर्घटनाएं हुई और रेलमंत्री को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया, उसके बाद सुरेश प्रभु ने नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की है. गौरतलब है कि 19 तारीख को मुजफ्फरनगर में उत्कल एक्सप्रेस बेटरी हुई थी, जिसमें 23 लोगों की मौत हुई थी, वहीं आज कैफियत एक्सप्रेस इटावा जिले के ओरैया में बेपटरी हो गयी. इन दुर्घटनाओं के बाद रेल मंत्री पर इस्तीफा देने के लिए दबाव बढ़ गया था. दुर्घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल को मिलने के लिए बुलाया था, जहां उन्हें बहुत फटकार लगायी गयी थी. उसके बाद से ही यह आशंका जतायी जा रही थी कि चेयरमैन और मंत्री का इस्तीफा हो सकता है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने इस्तीफा दे दिया है.

About

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required