रांची बना देश की पहली ग्रीनफील्ड स्मार्ट सिटी

ज्यादा सुविधा के लिए थोड़ा टैक्स चुकाइये : वेंकैया नायडू

रांची : उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने झारखंड की राजधानी रांची में देश की पहली ग्रीनफील्ड स्मार्ट सिटी का शिलान्यास किया. एचइसी में बननेवाला यह शहर कार्बन फ्री जोन होगा. देश की पहली स्मार्ट सिटी का शिलान्यास करने के बाद उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि यह भव्य भारत की नींव है.

उन्होंने कहा, ‘यह एक आकर्षक नगरी होगी. हमारे भव्य भारत के अंग के रूप में इसे देखना चाहिए. हमारे उज्ज्वल भविष्य के लिए स्मार्ट सिटी जरूरी हैं. यहां नागरिकों को सभी सुविधाएं मिलेंगी. रहने को मकान, चलने के लिए सड़क, सार्वजनिक परिवहन, स्वच्छता के साथ-साथ शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध होंगी. जहां ये सारी सुविधाएं होती हैं, उसे ही स्मार्ट सिटी कहते हैं.’

वेंकैया नायडू ने कहा कि अब हम 24 घंटे बिजली और पानी की सुविधा देने की ओर बढ़ रहे हैं. यह काम अकेले सरकार नहीं कर सकती. उन्होंने कहा कि लोगों को विकास कार्य में सरकार की मदद करनी चाहिए. उन्हें ईमानदारी से टैक्स देना होगा. उन्होंने कहा कि लोग स्मार्ट सिटी चाहते हैं, लेकिन कोई टैक्स नहीं देना चाहता. उन्होंने कहा कि सभी लोग कुछ न कुछ योगदान दें, ताकि देश का विकास हो.

उन्होंने कहा कि बिजनेसमैन, उद्योगपतियों को टैक्स देने के बारे में सोचना चाहिए. जब आप देश में उपलब्ध संसाधनों का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इसका कुछ तो कीमत दीजिये. पुराने जमाने को भूल जाइये, जब बिजली कब आती है, कब जाती है, किसी को पता ही नहीं चलता था. सरकार देश को उस दौर से बाहर निकालना चाहती है.

उपराष्ट्रपति ने कहा कि जनभागीदारी से ही स्मार्ट सिटी का सपना साकार होगा. स्मार्ट सिटी बनाने के लिए स्मार्ट लीडर की जरूरत होती है. जिनके पास कमिटमेंट है, कैलिबर है, वही स्मार्ट सिटी बना सकते हैं. उन्होंने कहा कि नेता केवल विधायक, सांसद, मेयर, पार्षद नहीं हैं. देश का हर नागरिक नेता है. जब तक सभी लोगों की भागीदारी नहीं होगी, स्मार्ट सिटी नहीं बन सकता.

उन्होंने कहा, एक स्मार्ट सिटी बनने से क्या होगा? 100 स्मार्ट सिटी बनने से क्या होगा? उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने कहा कि स्मार्ट सिटी एक लाइट हाउस है. लाइट हाउस समुद्र में जहाज के कप्तान का मार्गदर्शन करता है. स्मार्ट सिटी वही लाइट हाउस है. यह एक मॉडल होगा. लोगों को इससे प्रेरणा मिलेगी. श्री नायडू ने कहा कि वेंकैया नायडू की वजह से रांची को स्मार्ट सिटी नहीं मिला. प्रतिस्पर्धा के माध्यम से रांची ने अपना स्थान बनाया है. इसके लिए यहां की सरकार और अधिकारी अभिनंदन के योग्य हैं.

श्री नायडू ने कहा कि सरकार चाहती है कि हर शहर में स्मार्ट सिटी बने. इसके लिए मेहनत करनी होगी. उन्होंने कहा कि जब वह शहरी विकास मंत्री थे, तब प्रधानमंत्री ने उनसे कहा था कि राजनीतिक कारणों से किसी राज्य को स्मार्ट सिटी देने की जरूरत नहीं है. जो स्पर्धा कर सके, उस राज्य को ही स्मार्ट सिटी दें.

उपराष्ट्रपति ने कहा कि पीपीपी मॉडल पर स्मार्ट सिटी को बसाया जायेगा, क्योंकि सरकार अकेले इतने पैसे खर्च नहीं कर सकती. उन्होंने कहा कि इस मत्वाकांक्षी परियोजना को मूर्त रूप देने के लिए स्पेशल पर्पज व्हिकल बनाया गया. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को एक सप्ताह में स्मार्ट सिटी के निर्माण के लिए सीओओ नियुक्त करने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि जल्द ही 10 नये स्मार्ट सिटी की घोषणा हो जायेगी.

श्री नायडू ने कहा कि दुनिया आगे बढ़ रही है. टेक्नोलॉजी विकसित हो रहे हैं. फिर हम पीछे क्यों? इस पर हमें गंभीरता से सोचना होगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री भारत को समृद्ध राष्ट्र बनाना चाहते हैं. यह तभी संभव होगा, जब देश का हर जनप्रतिनिधि, हर नागरिक भागीदार बने. उद्योगपति इसमें पैसे लगायें. ईमानदार लोग टैक्स चुकायें. सरकारें और अधिकारी ईमानदारी से अपना काम करें.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने विधि-विधान से स्मार्ट सिटी की आधारशिला रखने के बाद स्मार्ट सिटी के मास्टर प्लान का विमोचन भी किया.

2020 तक झारखंड में कोई बेघर नहीं रहेगा : रघुवर दास

इससे पहले मुख्यमंत्री रघुवर दास ने उपराष्ट्रपति का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनों का भारत बनाने में अपना पूरा-पूरा योगदान देगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि 2020 तक झारखंड में कोई बेघर नहीं रहेगा. गांव हो या शहर, हर व्यक्ति का होगा अपना घर. मुख्यमंत्री ने यह भी उम्मीद जतायी की रांची की स्मार्ट सिटी तय समय से पहले बन कर तैयार हो जायेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘आज झारखंड के लिए ऐतिहासिक दिन है. राज्य की सवा तीन करोड़ जनता की ओर से उपराष्ट्रपति जी का हार्दिक अभिनंदन. हम पीएम और खुद नायडू जी का सपना पूरा कर रहे हैं.’ मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड की पहली स्मार्ट सिटी में 24 घंटे बिजली पानी की व्यवस्था होगी.

रघुवर दास ने कहा कि झारखंड दुनिया के लिए बाजार बनेगा. एक-एक झारखंडवासी कह सकेगा कि देश में पहला ग्रीन और स्मार्ट सिटी अगर कहीं है, तो मेरे झारखंड में है. उन्होंने कहा कि न्यू इंडिया बनाने पर सरकार का जोर है. स्मार्ट सिटी से लोगों को रोजगार मिलेगा,समय से पहले बने स्मार्ट सिटी नगर विकास विभाग ये सुनिश्चित करें.

झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि स्मार्ट सिटी बनने से झारखंड के लोगों को रोजगार मिलेगा. स्मार्ट सिटी में स्वच्छता पर विशेष जोर रहेगा, जिससे लोगों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी नहीं होगी. उन्होंने कहा कि नये शहर में बेहतर शिक्षा की व्यवस्था की जायेगी, ताकि झारखंड के बच्चों को अपने राज्य के बाहर न जाना पड़े.

About

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required