एनएसयूआई ने एबीवीपी को दिया बड़ा झटका दिया है.

नयी दिल्ली : दिल्ली छात्र संघ चुनाव में एनएसयूआई ने चार साल बाद शानदार वापसी की है. दिल्ली यूनिवर्सिटी में पिछले चार साल से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का छात्र संघ पर कब्जा था. अध्यक्ष पद का चुनाव एनएसयूआई के रॉकी तुसीद ने जीता है, जबकि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने सचिव पद पर जीत दर्ज की है. हालांकि अभी अधिकारिक घोषणा नहीं हुई है, लेकिन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लिए यह बड़ा झटका है.

कितने मिले वोटः
रॉकी तुषीड(अध्यक्ष)- 16,299
कुणाल शहरावत(उपाध्यक्ष)- 16,431
महामेधा नागर(सचिव)- 17,156
उमा शंकर(संयुक्त सचिव)- 16,691

यह जीत एनएसयूआई और कांग्रेस दोनों के लिए ‌ही प्रेरणादायी है। हालांकि यह चार साल से डूसू में काबिज एबीवीपी के लिए बहुत बड़ा झटका है।

इस जीत के पीछे राहुल गांधी के उस कदम को भी महत्वपूर्ण माना जा सकता है ज‌िसमें उन्होंने कश्मीर के एक ऐसे युवा को एनएसयूआई का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया जिसका किसी राजनीतिक घराने से संबंध नहीं है।

हालांकि परिणाम आने के बाद एनएसयूआई ने संयुक्त सचिव पद के लिए पुर्नमतगणनी की मांग की है। पार्टी का कहना है कि पहले तो इस पद पर लगातार एनएसयूआई उम्मीदवार ही जीत रहा था लेकिन, अचानक एबीवीपी के इस सीट पर जीत की घोषणा कर दी।

About

You may also like...

Your email will not be published. Name and Email fields are required